आवाज़ और मौन के बीच कहीं…

 

माँ सबसे बात करते रहती है ,

बल्लहर ,भिंडी ,भाजी तोड़ते समय मिट्ठु से ,

खाना बनाते बनाते बर्तन माँजने वाली बाई से ,

और शाम में दरवाज़े पे खड़े खड़े ख़ुद से ,

और वो कभी कभी अपने भय और अपनी  इच्छाएँ तुलसी और बरगद को भी बताती है।

सबसे आख़िर में ,पिता को ।

10003800_996865660376912_5731782952125528715_o

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

माँ अपने हाथ पैर भी कभी कभार ही दबवाती है ।

दिन भर खड़े-खड़े ,कभी-कभी उसकी एढ़ियाँ दुखती है ,

दो हाथ लगाओ ,वो सो जाती है ।

नहीं बस वो सो जाती है ,फिर नींद में नहीं बोलती ।

 

पर पिता ,

पिता कुछ नहीं बोलते ,

लगभग नहीं जैसा ।

जैसे एक तराज़ू में एक ओर शब्द हैं और दूसरी ओर बाँट

मतलब बोलते हैं ,नपा तुला सा ।

जैसे अख़बार पढ़ते पढ़ते कभी कोई ख़बर बोलकर पढ़ लेते हैं ।

या घर के बाहर , दूध डेयरी पे बैठ कर दोस्तों से कुछ बोल लेते हैं ।

 

Screenshot 2019-05-17 at 7.50.13 PM.png

 

पर घर पर बोलना अलग होता है ,बाहर बोलना अलग ।

 

पिता क्या कमरे में रात में बैठ कर बड़बड़ाते हैं ?

माँ कहती है की पिता कैल्क्युलेटर से बात करते हैं ।

मैंने एक दिन झाँक कर देखा ,

पिता सच में डिम बल्ब की रोशनी में कैल्क्युलेटर की बटन दबाते जाते ,संख्या बोलते जाते ।

और रजिस्टर में लिखते जाते ,

कभी ऑफ़िस का अकाउंट ,तो कभी एक पीली कापी में घर का ख़र्चा ।

जोड़ घटाना ,गुना भाग ।

 

पिता रोज़ हाथ पैर दबवाते हैं ,उनके कंधे बहुत दुखते हैं !

 

माँ के बग़ल में जाकर लेट जाते हैं ।

फिर आँख बंद करे पड़े रहते हैं ,करवट बदलते ।

 


अंधेरे में चुप खड़ा होकर ,

मैं हल्की रोशनी में उन्हें देखता हूँ ,

पिता आँख बंद बंद किए किए बोलते हैं

“सोजा ! बेटा ! ”

 

क्या कुछ शब्द जो नहीं कहे जाते

वो माँसपेशियों में उतर कर ऐंठन बन जाते हैं ?

 

Advertisements

1 thought on “आवाज़ और मौन के बीच कहीं…

  1. It touched my ❤️… really I m into it…ur words depicted the who scenes in front of me ,I had in my memories

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this:
search previous next tag category expand menu location phone mail time cart zoom edit close