मैं अपने फटे-पुराने जूतों में ही रहता हूँ।



वैसे तो मैं अपने  फटे-पुराने जूतों में ही रहता हूँ,
हाँ ! कभी-कभार शाम सिराहने लगाकर, किसी कच्ची छत को ओढ़ लेता हूँ ।
पौ फटते ही  खपरों की चादर को इक तरफ ढकेल,
फिर उन्ही जूतों में बसर कर लेता हँ।
मैं अपने ……. फटे-पुराने जूतों में ही रहता हूँ।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this:
search previous next tag category expand menu location phone mail time cart zoom edit close