“घर”

वैसे तो मैं अपने  ,

फटे पुराने जूतों में  ही रहता हूँ,

हाँ , कभी-कभार शाम सिराहने लगाकर,

किसी छत को ओढ़  लेता हूँ ।

पौ फटते ही, खपरों की चादर को इक तरफ ढकेल,

फिर उन्ही, जूतों में, बसर कर लेता हँ।

मैं अपने …….

फटे पुराने जूतों में ही रहता हूँ।
photograph credits :akshat pathak

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s